11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi । Maharashtra State Board Class 11 Hindi Lokbharti Chapter Krushak gan Swadhyay । Iyatta dahavi Hindi | class 10th

* सूचना के अनुसार कृतियाँ कीजिए :

(१) संजाल पूर्ण कीजिए :

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi
कवि की चाह

 

उत्तर:

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi
11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi

 

(२) कृतियाँ पूर्ण कीजिए :

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi

उत्तर:

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi
कृषक इन स्‍थितियों में अविचल रहता है

 

(३) वाक्‍य पूर्ण कीजिए :

१. कृषक कमजोर शरीर को —–

उत्तर:

कृषक कमजोर शरीर को पत्तियों से पालता है।

२. कृषक बंजर जमीन को ——

उत्तर:

कृषक बंजर जमीन को अपने खून से सींचकर उर्वरा बना देता है।

 

(४) निम्‍नलिखित पंक्‍तियों में कवि के मन में कृषक के प्रति जागृत होने वाले भाव लिखिए :

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi
(4) निम्‍नलिखित पंक्‍तियों मंे कवि के मन में कृषक के प्रति जागृत होने वाले भाव लिखिए ः

उत्तर:

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi
11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi

 

(५) कविता में आए इन शब्‍दों के लिए प्रयुक्‍त शब्‍द हैं :

१. निर्मातासृजक

२. शरीर    तन 

३. राक्षस  असुर

४. मानव  मनुजता

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi

(६) कविता की प्रथम चार पंक्‍तियों का भावार्थ लिखिए ।

उत्तर:

कृषक के अभावों की कोई सीमा नहीं है। परंतु वह संतोष रूपी धन के सहारे अपना जीवन व्यतीत कर रहा है। पूरे संसार में कैसा भी वसंत आए, कृषक के जीवन में सदैव पतझड़ ही बना रहता है। अर्थात ऋतुएँ बदलती हैं, लोगों की परिस्थितियाँ बदलती हैं, परंतु कृषक के भाग्य में अभाव ही अभाव हैं। ऐसी दयनीय स्थिति के बावजूद उसे किसी से कुछ माँगना अच्छा नहीं लगता। वह हाथ फैलाना नहीं जानता। कृषक को अपनी दीन-हीन दशा पर भी नाज है। मैं ऐसे व्यक्ति पर अभिमान करना चाहता हूँ। कृषक के गीत गाना चाहता हूँ।

11 कृषक गान स्वाध्याय। Krushak gan Swadhyay class 10 Hindi

(७) निम्‍न मुद्‌दों के आधार पर पद्‌य विश्लेषण कीजिए :

रचनाकार कवि का नाम :

रचना का प्रकार :

पसंदीदा पंक्‍ति :

पसंदीदा होने का कारण :

रचना से प्राप्त प्रेरणा :

उत्तर:

रचनाकार का नाम दिनेश भारद्वाज।

कविता की विधा गान।

पसंदीदा पंक्ति हाथ में संतोष की तलवार ले जो उड़ रहा है।

पसंदीदा होने का कारण अनगिनत अभावों के होते हुए भी कृषक के पास संतोष रूपी धन है।

रचना से प्राप्त संदेश/प्रेरणा कृषक दिन-रात परिश्रम करके संपूर्ण सृष्टि का पालन करता है। हमें उसके परिश्रम के महत्त्व को समझना चाहिए। उसका सम्मान करना चाहिए।

1. बरषहिं जलदCLICK HERE

 

हिंदी – इयत्ता दहावी हिंदी गाइड Maharashtra State Board Class 10 Hindi Lokbharti Digest

Print Friendly, PDF & Email
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.